Reading Time: 2 minutes

दोस्त, परिवार और भोजन: रमज़ान के महीने में किसी भी मुस्लिम घर में इफ़्तार यानी रोज़ा खोलने के समय का यही नज़ारा होता है. सहरी और इफ़्तार में भोजन एक अहम भूमिका निभाता है. लेकिन, रमज़ान के दौरान आपको क्या खाना है, क्या नहीं, इसकी प्लानिंग कैसे करते हैं आप? आइए देखते हैं.

आम तौर पर, इफ़्तार में एक से एक शानदार चीज़ें खाई जाती हैं. मीठे, मलाईदार और तले-भुने पकवानों का होना तय ही है. हालांकि, ऐसी चीज़ें आगे चलकर सेहत को काफ़ी नुक़सान पहुंचाती हैं. लिहाज़ा इनसे बचना चाहिए खासतौर पर रमज़ान के दिनों में क्योंकि इस दौरान व्यक्ति को और भी संतुलित और पौष्टिक चीज़ों को खाने की ज़रूरत होती है.

इफ़्तार के समय रोज़ा खोलना 

आमतौर पर रोज़ा खजूर और पानी के साथ खोले जाने का रिवाज है. खजूर के कई नुट्रीशनल फ़ायदे हैं. इनमें कई तरह के विटामिन और मिनरल होने के अलावा यह एंटीऑक्सिडेंट और फ़ाइबर से भरपूर होते हैं.(1) खजूर में क़ुदरती शुगर ‘फ्रुक्टोज़’ होने की वजह से यह तुरंत एनर्जी पाने का एक अच्छा स्रोत भी होता है. खजूर के अलावा आप ख़ुबानी, अंजीर, किशमिश जैसे दूसरे सूखे मेवे या ताज़े मौसमी फल भी आज़मा सकते हैं.

शरीर में पानी की कमी ना होने दें! पक्का करें कि आपको इस दौरान ज़रूरत भर का पानी या दूसरी चीज़े पीनी हैं. काफ़ी देर तक पानी से दूर रहने के बाद आपके शरीर को रिहाइड्रेशन की ज़रूरत होती है. आप इसके लिए पानी के अलावा दूध, फलों के रस या स्मूदी भी पी सकते हैं, लेकिन पानी सबसे अच्छा विकल्प होता है: यह बिना कोई कैलोरी या अतिरिक्त शुगर पहुंचाए आपके शरीर को हाइड्रेट करता है.

सूप का इस्तेमाल अपनी भूख को कंट्रोल में रखने और ओवरईटिंग से बचने का एक बहुत ही अच्छा तरीक़ा है. सब्ज़ी, दाल, जौ या चिकन से बने सूप पिएं. सलाद भूख कम करने में अहम रोल निभाते हैं. अगर आप मांस खाना ज़्यादा पसंद करते हैं, तो उसे हेल्दी तरीक़े से तैयार करें. डीप फ्राई या क्रीमी सॉस में पकाने के बजाए उसे स्टीम, ग्रिल, स्टर फ्राई या बेक करें.

इसे भी पढ़ें: रमज़ान के दौरान डायबिटिक कैसे रखें अपना ख़याल?

अपने इफ़्तार के भोजन में बहुत सारी सब्ज़ियां और साबुत अनाज शामिल करें, ताकि शरीर को ज़रूरी विटामिन, मिनरल, एनर्जी और फ़ाइबर मिल सके. तले हुए और प्रोसेस्ड फ़ूड से बचें. इस पर भी ध्यान रखना ज़रूरी है कि आप कितना खा रहे हैं. जो भी खाएं, सोच-समझकर खाएं.

सहरी ज़रूर खाएं 

रमज़ान में सुबह होने से पहले यानि सहर के समय किए जाने वाले भोजन को सहरी कहते हैं. यह बहुत ही अहम होता है, क्योंकि यह आपको पूरे दिन उपवास करने की ताक़त देता है. सहरी में पानी और दूसरी लिक्विड चीज़ें ख़ूब पिएं. उपवास के दौरान तरबूज़ जैसे फल खाएं, जिनमें शरीर को हाइड्रेटेड रखने की ख़ूबी होती है. एनर्जी के लिए चावल या खसखस जैसी स्टार्च वाली चीज़ें अच्छी रहती हैं. जई, फ़ाइबर से भरपूर दलिया और साबुत अनाज वाले फ़ूड खाने से आप लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस करेंगे. इन सबके अलावा, दही खाने का विकल्प काफ़ी अच्छा है, क्योंकि यह प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर होता है.

इन बातों का का ख़याल रखते हुए आप रमजान महीने में अपनी सेहत का पूरा ख़याल रखें.  

रमज़ान आपके लिए अच्छी सेहत और ख़ुशियों भरा रहे, हम यही कामना करते हैं!


संदर्भ:
 

  1. Rahmani AH, Aly SM, Ali H, Babiker AY, Srikar S, Khan AA. Therapeutic effects of date fruits (Phoenix dactylifera) in the prevention of diseases via modulation of anti-inflammatory, antioxidant and antitumor activity. Int J Clin Exp Med. 2014;7(3):483–491. 2014.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.