Diabetes and Alzheimer's
Reading Time: 4 minutes

डायबिटीज़ एक ऐसी बीमारी है जो तब होती है, जब पैनक्रियाज़ आपके ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने वाले हॉर्मोन इंसुलिन को पर्याप्त मात्रा में नहीं बना पाता या जब शरीर मौजूद इंसुलिन का इस्तेमाल सही तरह से नहीं पर पाता. हाई ब्लड प्रेशर  अनियंत्रित मधुमेह की पहचान है.[1]

डायबिटीज़ दो तरह के होते हैं – टाइप 1 डायबिटीज़ और टाइप 2 डायबिटीज. इंसुलिन बनने की रफ़्तार धीमी होने की वजह से टाइप 1 डायबिटीज़ होता है जिसे ‘इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह’ यानी इंसुलिन-डिपेंडेंट डायबिटीज़ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें रोज़ाना इंसुलिन लेने की ज़रूरत पड़ती है. टाइप 2 डायबिटीज़ इंसुलिन पर निर्भर डायबिटीज़ नहीं है. टाइप 2 डायबिटीज़ तब होता है जब शरीर मौजूद इंसुलिन का इस्तेमाल प्रभावी तरीके से नहीं कर पाता. दुनिया भर में ज़्यादातर लोग टाइप 2 डायबिटीज़ से प्रभावित हैं.[1]

क्या आप जानते हैं कि भारत में 30 मिलियन से ज़्यादा लोग मधुमेह से प्रभावित हैं, हालांकि इसका वास्तविक अनुमान 40 मिलियन के करीब लगाया गया है.[2]

अल्ज़ाइमर डिज़ीज़ और डिमेंशिया के बीच संबंध

वहीं दूसरी ओर, अल्ज़ाइमर डिज़ीज़ (AD) दिमाग से जुड़ी एक अपक्षयी और बढ़ने वाली बीमारी है, जिसके होने की सही वजह अभी भी पता नहीं चल सकी है. (आसान भाषा में कहें तो भूलने की बीमारी) अल्ज़ाइमर, डिमेंशिया का एक सामान्य रूप है और डिमेंशिया के 60-80% मामलों में इसकी भूमिका होने की बात मानी गई है. भले ही ऐसा लगता हो कि मधुमेह और AD दो अलग-अलग बीमारियां हैं, लेकिन हाल के वैज्ञानिक प्रमाणों से संकेत मिलता है कि दोनों ही स्थितियां आपस में जुड़ी हुई हैं. ऐसा इसलिए भी माना जाता है क्योंकि दोनों ही हालातों में शरीर में ग्लूकोज का बैलेंस सही नहीं होता और दिमाग भी सही तरह से काम नहीं करता.[3-5]

डायबिटीज़ और AD के बीच संबंध

इन दोनों बीमारियों के बीच संबंध हैं. असल में AD को टाइप 3 डायबिटीज़ माना जाता था.[5] टाइप 2 डायबिटीज़ मेलेटस (T2DM) से प्रभावित पेशंट में AD होने का जोख़िम बहुत ज़्यादा होता है.[4]

रिसर्च के मुताबिक़ मस्तिष्क में हाइपरग्लाइसीमिया और इंसुलिन प्रतिरोध, इन दोनों स्थितियों को जोड़ने वाली सामान्य कड़ी हो सकती है.[4]

एक स्टडी में इन दोनों बीमारियों के बीच मजबूत कनेक्शन का खुलासा किया गया है और बताया गया है कि अल्ज़ाइमर के 81% मामलों में T2DM या इम्पेयर्ड फ़ास्टिंग ग्लूकोज़ (IFG) की भूमिका थी.[6]

डायबिटीज़ से संबधित डिमेंशिया

ऐसा लगता है कि AD और डायबिटीज़ के बीच एक संबंध है, लेकिन मधुमेह से संबंधित डिमेंशिया यानी मनोभ्रंश के किसी मामले की अभी तक कोई रिपोर्ट नहीं की गई है. हालांकि, मधुमेह से संबंधित मनोभ्रंश से जुड़े एक महत्वपूर्ण कार्य तंत्र की पहचान की गई है.[7]

इसे भी पढ़ें: ये अंग होते हैं मधुमेह से प्रभावित

T2DM के लिए अल्जाइमर डिज़ीज़ और अल्जाइमर डिज़ीज़ के लिए T2DM एक जोख़िम भरा कारक है क्योंकि डेटा के मुताबिक़ ये बीमारी कई लेवल पर जुड़ी हुई हैं. हाल की स्टडी में सामने आया है कि दोनों डिसऑर्डर में सामान्य पैथोजेनिक मेकेनिज्म का इस्तेमाल किया जाता है.[8]

क्या मधुमेह-संबंधी मनोभ्रंश से बचने के कोई उपाय हैं?

  • स्टडी से पता चलता है कि करक्यूमिन और रेस्वेराट्रोल जैसे पोषक तत्व और नैचरल फ़ूड कम्पोनेंट इस डिसऑर्डर को रोकने में कारगर रहे हैं.[7]
  • विटामिन B6, फ़ोलेट, नियासिन और विटामिन B12 जैसे खाने के कई फंक्शनल कम्पोनेंट की डायबिटीज़, हाइपरग्लाइसीमिया और AD की रोकथाम या उपचार में अहम भूमिका होने की बात पाई गई है.[7]
  • स्टडी में देखा गया कि टैनिक एसिड में कुछ बेहतरीन निरोधात्मक खूबियां मौजूद हैं और इससे T2DM और अल्जाइमर के इलाज के लिए उम्मीद की एक नई दिशा मिली है.[9]
  • इसके अलावा, खानपान से जुड़े कुछ डाइट जैसे मेडिटेरेनियन-DASH इंटरवेंशन फॉर न्यूरोडीजेनेरेटिव डिले (MIND) और डायटरी अप्रोचिस टू स्टॉप हाइपरटेंशन (DASH) डाइट को डिमेंशिया की रोकथाम में प्रभावी कहा गया है, लेकिन इस संबंध में अहम रिसर्च की अभी भी ज़रूरत है.[7]

थोड़े में ज़्यादा समझें 

आख़िर में, वैज्ञानिक आपको अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने की एक और वजह देते हैं. डिमेंशिया होने का खतरा डायबिटीज़ से प्रभावित लोगों में दो गुना ज़्यादा होता है; इसलिए, ऐसे लोगों को ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना चाहिए क्योंकि इससे भविष्य में अल्जाइमर के होने के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है.[10]

संदर्भ:

  1. World Health Organization. Diabetes [Internet]. [updated 2018 Oct 30; cited 2020 Jan 6]. Available from: https://www.who.int/news-room/fact-sheets/detail/diabetes.
  2. Diabetes.co.uk. Diabetes in India [Internet]. [updated 2019 Jan 15; cited 2020 Jan 6]. Available from: https://www.diabetes.co.uk/global-diabetes/diabetes-in-india.html.
  3. National Health Portal. World Alzheimer Day 2019 [Internet]. [updated 2019 Sep 19; cited 2020 Jan 6]. Available from: https://www.nhp.gov.in/world-alzheimer-day-2019_pg.
  4. Kresser Institute. The link between diabetes and Alzheimer’s disease [Internet]. [updated 2018 Mar 26; cited 2020 Jan 6]. Available from: https://kresserinstitute.com/the-link-between-diabetes-and-alzheimers-disease/.
  5. Akter K, Lanza EA, Martin SA, Myronyuk N, Rua M, Raffa RB. Diabetes mellitus and Alzheimer’s disease: shared pathology and treatment? Br J Clin Pharmacol. 2011 Mar;71(3):365-76. doi: 10.1111/j.1365-2125.2010.03830.x.
  6. Mostafa M, Yasaman M, Alireza R, Rezvan F, Pouriya D, Alieh A. Diabetes and its predictive role in the incidence of Alzheimer’s disease. Med Sci. 2019 Jan-Feb; 23(95)
  7. Lee HJ, Seo HI, Cha HY, Yang YJ, Kwon SH, Yang SJ. Diabetes and Alzheimer’s disease: mechanisms and nutritional aspects. Clin Nutr Res. 2018 Oct;7(4):229-40. doi: 10.7762/cnr.2018.7.4.229. Epub 2018 Oct 23
  8. Vieira MNN, Lima-Filho RAS, De Felice FG. Connecting Alzheimer’s disease to diabetes: underlying mechanisms and potential therapeutic targets. Neuropharmacology. 2018 Jul 1;136(Pt B):160-171. doi: 10.1016/j.neuropharm.2017.11.014. Epub 2017 Nov 10
  9. Turkan F, Taslimi P, Saltan FZ. Tannic acid as a natural antioxidant compound: discovery of a potent metabolic enzyme inhibitor for a new therapeutic approach in diabetes and Alzheimer’s disease. J Biochem Mol Toxicol. 2019 Aug;33(8):e22340. doi: 10.1002/jbt.22340. Epub 2019 Apr 11.
  10. Zardoui A, Pourmennati B, Darvishi A. Alzheimer’s disease and diabetes: diffusion tensor imaging as a probable diagnostic measure. J Neurol Neurosci. 2016 May 27;7(3):111. 10.21767/2171-6625.1000111

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.