indian gooseberry amla for diabetes control
Reading Time: 4 minutes

आंवला जिसे इण्डियन गूज़बेरी भी कहते हैं, शरीर की इम्‍यूनिटी (प्रतिरोधक क्षमता) दुरुस्‍त करने के अलावा बालों और आपकी त्वचा के लिए भी काफ़ी फ़ायदेमंद है. नए शोध अध्ययन इस बात की ओर भी इशारा कर रहे हैं कि आंवला में एंटी डायबिटिक तत्व मौजूद है जो डायबिटीज़ (मधुमेह) से लड़ने में मदद कर सकते हैं.

एंटीऑक्सीडेंट्सआंवला के फ़ायदों का राज़ 
हमारे शरीर में होने वाली रासायनिक प्रतिक्रियाएं फ़्री रैडिकल्स को जन्म देती हैं, ये फ़्री रैडिकल्स ऑक्सीडेशन नामक प्रक्रिया द्वारा शरीर की सेल (कोशिकाओं) को नुक़सान पहुंचाते हैं.

एंटीऑक्सिडेंट एक ऐसा तत्व है जो इस ऑक्सीडेटिव प्रक्रिया को बे-असर कर सकता है. आंवला विटामिन-सी से भरपूर होता है, जो एक एंटीऑक्सीडेंट है, और आवंला की यही ख़ूबी इसे स्वास्थ्य के लिए और बेहतर बनाती है.

ऑक्सीडेशन का डायबिटीज़ से क्या सम्बन्ध है?
रिसर्च से पता चला है कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (तनाव) मधुमेह और इससे जुड़ी जटिलताओं का मूल कारण है.(1, 2) इसलिए, यह माना जाता है कि एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध पदार्थ ऑक्सीकरण (ऑक्सीडेशन) के हानिकारक प्रभाव को उलट सकते हैं और इस तरह, ये आपको डायबिटीज़ से निपटने में मदद कर सकते हैं.(3)

डायबिटीज़ को नियंत्रित करने के लिए आंवला का उपयोग कैसे करें?

सबसे अच्छा ये रहेगा कि आप इसे ताज़ा फल की तरह खाएं. अगर आपको इसका स्वाद तीखा और खट्टा लगे तो इसे खाने के तुरंत बाद आप थोड़ा पानी पी सकते हैं. ये आपको कुछ मीठा स्वाद दिलाने में मदद करेगा.

आंवला का जूस तैयार करने के लिए, इसके बीज को निकाल दें और गूदा निचोड़ते हुए रस निकालना शुरू करें. आप हर दिन इसका लगभग 5-10 मिलीलीटर जूस पी सकते हैं.

इसे भी देखें: डायबिटीज़ में कहीं घूमने जा रहे हों, तो ये 5 टिप्स काम की हैं

ये रहे डायबिटीज़ से लड़ने वाले कुछ और घरेलू नुस्ख़े जिन्हें आप आसानी से आज़मा सकते हैं

एक विकल्प ये है कि आंवला के गूदे को सुखा दीजिए और इसका बारीक पाउडर बनाकर इस्तेमाल में लाएं. शुरुआत कम मात्रा के साथ करें, जैसे एक चम्मच का चौथाई हिस्सा- और फिर धीरे-धीरे आप इसका एक चम्मच उपयोग में ला सकते हैं.

आप आंवला के पाउडर को पानी या नींबू के रस में मिला सकते हैं, या फिर पपीता के अलावा अन्य फलों को तीखा स्वाद देने के लिए इसे उसपर छिड़क सकते हैं.

आप चाहें तो आंवला की चटनी भी बना सकते हैं, इसके लिए आंवला के बीज निकालें और इसके गूदे को थोड़ी हरी मिर्च, धनिया, अदरक और कुछ नमक मिलाकर पीस दें. आंवला की चटनी बन कर तैयार है.

कुछ लोग शहद में आंवला का पाउडर इस्तेमाल करना पसंद करते हैं, लेकिन आंवला का इस्तेमाल करते हुए कुछ सावधानियां बरतना ज़रूरी है.

हालांकि बाज़ार में आंवला के रस और आंवला से बनी कैंडी की कई क़िस्में आसानी से उपलब्ध हैं, लेकिन आपको इनके इस्तेमाल से बचने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि इन उत्पादों को स्वादिष्ट बनाने के लिए आम तौर पर चीनी का इस्तेमाल किया जाता है. तो अगर इस तरह से बने आंवला से आप किसी तरह का लाभ मिलने की उम्मीद कर रहे हों, तो आपको इसमें मिलाई गई अतिरिक्त चीनी से नाउम्मीद होना पड़ सकता है.

ध्यान में रखने वाली बातें
आयुर्वेदिक सिद्धांतों के मुताबिक़ आंवला को दूध के साथ इस्तेमाल में नहीं लाया जाना चाहिए. हालांकि, इस दावे के समर्थन में कोई ठोस सबूत नहीं है, आप सावधानी बरतते हुए आंवला और दूध या दूध से बने पेय पदार्थों के बीच कम से कम आधे घंटे का अंतराल रख सकते हैं.

आंवला ब्लीडिंग के ख़तरे को भी बढ़ा सकता है, ऐसे में अगर आप इस तरह के किसी विकार से पीड़ित हैं, तो इसका इस्तेमाल न करें. इसके अलावा, अगर आप लीवर से जुड़ी किसी समस्या (यकृत विकार) से गुज़र रहे हैं तब आपको आंवला से बने ऐसे किसी भी उत्पाद का सेवन नहीं करना चाहिए जिसमें अदरक या गुदुची जैसी जड़ीबूटी मिली हो.

डायबिटीज़ में आंवला के फ़ायदेमंद होने के वैज्ञानिक प्रमाण
एक प्रयोगशाला में डायबिटीज़ के शिकार जानवरों पर आंवला का इस्तेमाल कर किये गये अध्ययन से पता चला कि आंवला में मधुमेह से लड़ने के गुण (एंटी डायबिटिक एक्शन) मौजूद होते हैं, जिससे ब्लड ग्लूकोज़ कम हो सकता है. (4)

मधुमेह के शिकार चूहों पर किए गये एक अध्ययन में पाया गया कि आंवला का रस टाइप 1 डायबिटीज़ से ग्रसित व्यक्तियों की हृदय संबंधी समस्याओं का इलाज करने में मदद कर सकता है.(5)

2011 में एक अध्ययन किया गया जिसमें डायबिटीज़ से ग्रसित लोगों और उन लोगों को शामिल किया गया जिन्हें डायबिटीज़ नहीं है. अध्ययन में पाया गया कि आंवला के फल से बनाए गये पाउडर का सेवन करने पर खाने से पहले और खाने के बाद किये गये टेस्ट में इन लोगों के ब्लड शुगर के स्तर में एक ज़बरदस्त कमी देखी गई.(6)

पशुओं पर किये गये अध्ययनों से जो आशाजनक नतीजे हासिल हुए उससे आंवला में मौजूद डायबिटीज़ से लड़ने वाले गुणों की उम्मीदें बढ़ गई हैं. हालांकि, हम डायबिटीज़ से ग्रसित और व्यक्तियों पर किये जाने परीक्षणों के परिणाम का इंतजार कर रहे हैं.

आंवला के फल में कई ऐसे लाभ हैं जिसके चलते नियमित रूप से इसका सेवन करते रहना, स्वस्थ जीवन जीने का बेहतर तरीक़ा हो सकता है.

फ़ोटो साभार:Pixabay

संदर्भ:
A. Ullaha, A. Khana, I. Khan. Diabetes mellitus and oxidative stress—A concise review. Saudi Pharmaceutical Journal. 24(5); 2016 September; 547-553 https://doi.org/10.1016/j.jsps.2015.03.013
A.C Maritim, R.A. Sanders, J.B. Watkins. Diabetes, oxidative stress, and antioxidants: a review. J Biochem Mol Toxicol. 2003;17(1):24-38. Available online at: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/12616644
S. Bajaj, A. Khan. Antioxidants and diabetes. Indian J Endocrinol Metab. 2012 Dec; 16(Suppl 2): S267–S271. doi: 10.4103/2230-8210.104057
N. Pathak, G. Kumar, R.C. Chaurasia. Evaluation Of Anti-Diabetic Activity Of Commercially Available Extracts Of Phyllanthus Emblica In Streptozocin Induced Diabetic Rats. Int J Pharm Bio Sci 2016 Oct; 7(4): (P) 139 – 145 Available online at: https://www.google.co.in/url?sa=t&rct=j&q=&esrc=s&source=web&cd=5&cad=rja&uact=8&ved=0ahUKEwiqqpea1InYAhUM5o8KHWsACk0QFghEMAQ&url=http%3A%2F%2Fwww.ijpbs.net%2Fdownload.php%3Fdownload_file%3Dcms%2Fphp%2Fupload%2F5527_pdf.pdf%26did%3D5527&usg=AOvVaw1u-XzFdFGy-uPAPlO_NGS4
S.S. Patel, R.K. Goyal. Prevention of diabetes-induced myocardial dysfunction in rats using the juice of the Emblica officinalis fruit. Exp Clin Cardiol. 2011 Fall;16(3):87-91. Available online at: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/22065939
M.S. Akhtar, A. Ramzan, A. Ali, M. Ahmad. Effect of Amla fruit (Emblica officinalis Gaertn.) on blood glucose and lipid profile of normal subjects and type 2 diabetic patients. Int J Food Sci Nutr. 2011 Sep; 62(6): 609-16. doi: 10.3109/09637486.2011.560565.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.