Reading Time: 3 minutes

डिसलिपिडिमिया से यह बात साफ़ हो जाती है कि आपके ख़ून में लिपिड या कोलेस्ट्रॉल का लेवल सामान्य से ज़्यादा है. अगर आप डिसलिपिडिमिया के शिकार हैं, तो आपको कार्डियोवैस्कुलर (हृदयवाहिका) से जुड़ी बीमारियों के होने का ख़तरा बढ़ जाता है.(1) ऐसे में यह कहने की ज़रूरत नहीं कि आपको लिपिड लेवल कम करने के लिए तुरंत कोशिशें शुरू कर देनी चाहिए.

हम आपको डिसलिपिडिमिया के इलाज से जुड़ी कुछ बुनियादी बातें बता रहे हैं.(1,2) अगर आपके कोलेस्ट्रॉल या लिपिड में हल्की-फ़ुल्की बढ़त भी हुई होगी, तो शायद आप अपनी लाइफ़स्टाइल में ज़रूरी बदलाव के ज़रिए इस पर क़ाबू पाना चाहते होंगे. याद रहे कोलेस्ट्रॉल लेवल में मामूली कमी से भी आप कार्डियोवैस्कुलर से जुड़ी बीमारियों के ख़तरे को टाल सकते हैं.(1)

लाइफ़स्टाइल में बदलाव 

  • धूम्रपान

धूम्रपान कोलेस्ट्रॉल लेवल को प्रभावित करने वाली वजहों में सबसे अहम है. अगर आप धूमपान करते हैं, तो फ़ौरन इसे बंद कर दें. इस पर क़ाबू पाने के कई तरीक़े हैं. जिसे अपनाने से न सिर्फ़ आपका लिपिड लेवल सुधरेगा बल्कि कार्डियोवैस्कुलर की सेहत में भी सुधार होगा जैसे कि ब्लड प्रेशर.

  • डायट और न्यूट्रीशन

    इस तरह का खानपान अपनाएं: आपको कम कार्बोहायड्रेट, कम फ़ैट, कम कैलोरी वाली चीज़ें चुननी चाहिए. आप चाहें तो इसमें आहार विशेषज्ञ की भी मदद ले सकते है. हालांकि, कौन सा डायट सबसे बढ़िया है यह चर्चा का विषय है. पर सेहतमंद खानापन अपनाना ही सबसे सही है. तो आज से ही अपने खाने में चुने वही, जो सेहत के लिहाज़ से हो सही.
  • वज़न

बढ़ा हुआ वज़न भी इस परेशानी के लिए ज़िम्मेदार है. इसलिए वज़न को कम करना काफ़ी ज़रूरी होता है. इससे न सिर्फ़ कोलेस्ट्रॉल लेवल में कमी आती है, बल्कि आप हल्का भी महसूस करेंगे और लोगों के बीच में ज़्यादा बेहतर नज़र आएंगे.

  • शारीरिक गतिविधि

कई स्टडीज़ ने एक्सरसाइज़ को असरदार माना है. हफ़्ते में कम से कम एक या दो बार एक्सरसाइज़ (मांसपेशियों की कुछ एक्सरसाइज़ के साथ एरोबिक एक्सरसाइज़ करें) करने से कार्डियोवैस्कुलर और कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़ जैसे मेटाबॉलिक डिज़ीज़ में तुरंत फ़ायदे होते हैं. ख़ैर, किसी शाम पार्क में टहलकर आप यह ना समझें कि आपकी ज़िम्मेदारी पूरी हो गई. बेहतर असर के लिए ज़रूरी है कि आप हफ़्ते में कम से कम 150 मिनट सही ढंग से एक्सरसाइज़ करें.

  • तनाव

क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, कॉलेज की फ़ीस और ईएमआई जैसे ख़र्चों के इस दौर में हम में से ज़्यादातर लोग तनाव से घिरे हुए हैं. तनाव के चलते हमारे कार्डियोवैस्कुलर पर कई तरह से असर पड़ता है. ऐसे में आपके पास कोई जादू नहीं कि तनाव से छुटकारा पा जाएं पर इसे अनदेखा तो नहीं कर सकते. लिहाज़ा, अगर अब तक आपने योग, मेंडिटेशन या प्राणायाम की क्लास (ज़्यादा बेहतर हो अगर तीनों ही करें) नहीं लगवाई है, तो बेहतर होगा आप जल्द से जल्द ज्वाइन कर लें.

दवाओं से इलाज

स्टेटीन्स (Statins)

ज़्यादा वज़न वाले लोगों में डायबिटीज़ या दिल से जुड़ी बीमारियों के इलाज में अक्सर स्टेटीन्स का इस्तेमाल किया जाता है. डिसलिपिडिमिया के इलाज में ख़ासतौर पर स्टेटीन्स का इस्तेमाल किया जाता है. नुक़सानदायक कोलेस्ट्रॉल को कम करने में यह काफ़ी असरदार होता है, जिससे दूसरी परेशानियों का ख़तरा भी कम होता है.

कोलेस्टीरामिन (Cholestyramine), नियासिन (niacin) (निकोटिन एसिड) , और एज़ेटिमिबे (ezetimibe)

जो लोग स्टैटिन को सहन नहीं कर सकते हैं, कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए उन्हें ये दवाएं दी जाती हैं. कभी-कभार कोलेस्ट्रॉल लेवल को सही दायरे में लाने के लिए इन दवाओं के साथ स्टेटीन्स की भी ख़ुराक दी जाती है.

नई दवाएं

विज्ञान में हर रोज़ नई तरक्की हो रही है और डिसलिपिडिमिया भी इससे अछूता नहीं है. नई दवाएं (उदाहरण- अलीरोकुमब और एवोकुमब) अब उपलब्ध हो चुकी हैं और बाक़ी की दवाओं पर परीक्षण जारी है.(3) इन दवाओं को अच्छी तरह जांचने और इनके असर को जानने में काफ़ी वक़्त लगता है, और हां इन दवाओं के साइड इफ़ेक्ट भी होते हैं. इसलिए आप जिम जाते रहें.

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने से आपको उम्मीद छोड़ने की ज़रूरत नहीं है. इसे आप एक चेतावनी के तौर पर लें और सावधान हो जाएं. अपनी ठहरी हुई धीमी लाइफ़स्टाइल में ज़रूरत के मुताबिक़ बदलाव लाएं. असरदार दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन ध्यान रहे इनका असर सीमित है (सिर्फ़ कोलेस्ट्रॉल में कमी कर सकते हैं), जबकि लाइफ़स्टाइल में सुधार करने से इसके हर पहलू पर असर होता है.

 

संदर्भ:

  1. Anderson TJ, Gregoire J, Pearson GJ, Barry AR, Couture P, Dawes M, et al. 2016 Canadian Cardiovascular Society guidelines for the management of dyslipidemia for the prevention of cardiovascular disease in the adult. Canadian Journal of Cardiology. 2016 Nov 1;32(11):1263-82.
  2. Carreras ET, Polk DM. Dyslipidemia: Current therapies and guidelines for treatment. US Cardiol. Rev. 2017;11:10-5.
  3. Rader DJ. New therapeutic approaches to the treatment of dyslipidemia. Cell metabolism. 2016 Mar 8;23(3):405-12.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.