high-blood-pressure-heart-disease
Reading Time: 2 minutes

हाई ब्लड प्रेशर यानी हाइपरटेंशन क्या है?

हाइपरटेंशन एक ऐसी स्थिती है जिसे  हाई ब्लड प्रेशर भी कहा जाता है. यानी अगर ब्लड प्रेशर नॉर्मल (120/80 mmHg) से थोड़ा सा भी ज़्यादा है, तो उसे हाई ब्लड प्रेशर कहा जाता है, लेकिन मेडिकल के मानकों के मुताबिक उसी व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित माना जाता है जिसकी रीडिंग लगातार तीन बार 130/80 mmHg से ऊपर आए. 

हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रोक, हार्ट अटैक और दिल की बीमारियों की अहम वजह है. मोटापा, धूम्रपान, फैमिली हिस्ट्री और शराब के अधिक सेवन से ये ख़तरा और बढ़ जाता है.

ये दिल की बीमारियों से कैसे जुड़ा है?

हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन, लेफ़्ट वेंट्रिकल  हाइपरट्रॉफी (LVH) की वजह से हार्ट फ़ेलियर का कारण भी बन सकता है.[1] LVH एक ऐसी स्थिती है जिसमें दिल की मासपेशियां मोटी हो जाती हैं जिससे दिल की हर धड़कन के दौरान मांसपेशियों में रिलैक्सेशन की कमी आ जाती है. यह शरीर के अहम् अंगों में ऑक्सीजन की सप्लाई को कम कर देता है, ऐसा खासतौर पर परिश्रम के दौरान होता है. इन सब वजहों से आपका शरीर तरल को रोक लेता है जिससे आपके दिल की धड़कन बढ़ जाती है.  

ऐसी स्थिती में क्या किया जा सकता है?

ऐसी स्थिती को ब्लड प्रेशर कंट्रोल कर मैनेज किया जा सकता है. कार्डियोवैस्कुलर थेरेपी के विशेषज्ञों की समीक्षा में छपी स्टडी के मुताबिक “ब्लड प्रेशर में कमी होना ही बीमारी को बढ़ने से रोकने में सबसे अहम फैक्टर है और इसका वक्त पर इलाज कराने से हार्ट फ़ेलियर और स्ट्रोक के ख़तरे को टाला जा सकता है.[1]

संदर्भ

  1. Subramaniam V, Lip GY. Hypertension to heart failure: a pathophysiological spectrum relating blood pressure, drug treatments and stroke. Expert Rev Cardiovasc Ther. 2009 Jun;7(6):703-13. doi: 10.1586/erc.09.43. PubMed PMID: 19505285.
  2. Kjeldsen SE. Hypertension and cardiovascular risk: General aspects. Pharmacol  Res. 2018 Mar;129:95-99. doi: 10.1016/j.phrs.2017.11.003. Epub 2017 Nov 7. Review. PubMed PMID: 29127059
  3. Hypertension and cardiovascular risk: General aspects. Kjeldsen SE. Pharmacol Res. 2018 Mar;129:95-99. doi: 10.1016/j.phrs.2017.11.003. Epub 2017 Nov 7. Review.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.