steps to reverse diabetes
Reading Time: 5 minutes

कंटेंट की समीक्षा अश्विनी एस कनाडे ने की है, वे रजिस्टर्ड डाइटीशियन हैं और 17 सालों से मधुमेह से जुड़ी जानकारियों के प्रति लोगों को जागरूक कर रहीं हैं.

तथ्यों की जांच: आदित्य नर, बी.फ़ार्मा, एमएससी, पब्लिक हेल्थ एंड हेल्थ इकोनॉमिक्स.

बैंगलोर के रहने वाले 45 साल के तकनीशियन विक्रम कुलकर्णी को साल 2011 में डायबिटिक होने की बात मालूम हुई. कुलकर्णी कहते हैं, “मुझे डायबिटीज़ के बारे में पता चलने पर हैरानी नहीं हुई, क्योंकि मेरे परिवार में यह पहले भी लोगों को था. साथ ही, मैं तनाव में भी था.” कुलकर्णी को डॉक्टर ने दवाइयां दीं. उनका खानपान ठीक था. उनका काम एक जगह बैठकर करने का भी नहीं था.

कुछ सालों बाद, दवाइयों के बावजूद जब उनका ग्लूकोज़ लेवल कम नहीं हुआ तो डॉक्टर को उनकी दवाई की ख़ुराक बढ़ानी पड़ी. वह कहते हैं, “उस वक्त मैंने फ़ैसला किया कि मैं डायबिटीज़ को अपनी ज़िंदगी पर कब्ज़ा नहीं करने दूंगा. मैंने साइकिल चलानी शुरू की और अपने खाने-पीने पर ध्यान देने लगा. ध्यान से खाने-पीने से और रोज़ाना सैर करने से मैंने अपनी डायबिडीज़ को वापस लौटा दिया (डायबिटीज़ रिवर्सल). पिछले दो सालों से मुझे दवाइयां नहीं खानी पड़ रहीं.”

विक्रम जैसे हज़ारों ऐसे लोग हैं, जिन्होंने अपनी डायबिटीज़ के लिए कुछ करने का फैसला लिया, सही राह अपनाई और सबसे ज़रूरी चीज़, डायबिटीज़ को लौटाने के अपने लक्ष्य को हासिल करने तक लगे रहे. यह साबित किया जा चुका है कि ज़रूरी नहीं है, डायबिटीज़ ज़िंदगी भर रहे. आप ऐसी ज़िंदगी की उम्मीद लगा सकते हैं, जिसमें डायबिटीज़ का कम जोखिम हो और बिना दवाइयों के ज़िंदगी में आगे बढ़ सकें.

रजिस्टर्ड डायटीशियन और डायबिटीज़ ऐज्यूकेटर अश्विनी कनाडे कहती हैं, “डायबिटीज़ रिवर्सल’ का मतलब है पूरी तरह से दवाइयां बंद होना या कम हो जाना. साथ में ग्लूकोज़ लेवल सामान्य के आसपास रहे और शरीर का वज़न सही होने के साथ-साथ नियमित तौर पर शारीरिक गतिविधि का होना.

वह स्थिति जब डायबिटीज़ की समस्या बढ़नी बंद हो जाए, आपने वह पाई है या नहीं इसका पता लगाने के लिए HbA1C टेस्ट करवाया जाता है. यह टेस्ट पिछले तीन महीनों का औसत ब्लड शुगर लेवल नापता है.

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज़ में ज़रूरी है HbA1c टेस्ट की जानकारी

डायबिटीज़ जर्नल ऑफ़ अमेरिकन डायबिटीज़ असोसिएशन में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक, हॉर्मोन सिस्टम, डायबिटीज़ से जुड़ी शिक्षा, ट्रांसप्लांटेशन (प्रत्यारोपण), मेटाबॉलिज़्म, वज़न घटाने की सर्जरी, ख़ून से जुड़ी बीमारियां और कैंसर के जानकारों के एक मिले जुले समूह ने, डायबिटीज़ रिवर्सल की यह परिभाषा बताई है. हालांकि ये सुझाव एडीए का आधिकारिक मत नहीं है.(1)

आंशिक सुधारकम से कम एक साल के लिए बिना दवाइयों की मदद से, फ़ास्टिंग शुगर लेवल 100-125 mg/dl और A1C <6.5% बने रहना
पूरा सुधारकम से कम एक साल के लिए बिना दवाइयों की मदद से नॉर्मल फ़ास्टिंग ग्लूकोज़ (<100 mg/dl) और A1C बने रहना
लंबे वक्त के लिए सुधारकम से कम पांच सालों के लिए पूरी तरह सुधार दिखाई देना, इस स्थिति को डायबिटीज़ का ठीक होना भी कहा जा सकता है

‘डायबिटीज़ रिवर्स’ कैसे की जा सकती है?

डायबिटीज़ रिवर्सल यानी डायबिटीज़ को लौटाने के रास्ते पर आने के लिए आप ये कदम उठा सकते हैं.

खानपान और व्यायाम के ज़रिए डायबिटीज़ रिवर्सल

अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि खानपान में ऊर्जा देने वाली चीज़ों पर पाबंदी लगाकर, आपके अग्न्याशय (पाचक-ग्रंथि) के काम में सुधार लाया जा सकता है. साथ ही, डायबिटीज़ लौटाई भी जा सकती है.(2) 

वीडियो देखें: हाई ब्लड शुगर लेवल पर कैसे क़ाबू करें.

दूसरी स्टडीज़ के शुरुआती नतीजों से पता चला है कि बहुत कम कैलोरी वाले खानपान से कम से कम 6 महीनों के लिए डायबिटीज़ में सुधार लाया जा सकता है.(3) 

यह सुनने में चमत्कारी लगता है, लेकिन इस लक्ष्य को पाना नामुमकिन नहीं है. जानकार की मदद से अपने खानपान में छोटे बदलाव करके और अपने सुधार पर लगातार नज़र रखकर डायबिटीज़ लौटाने के रास्ते पर पहुंचा जा सकता है. लगातार इस जीवनशैली को बनाए रखने से आपको अपने लक्ष्य तक पहुंचने में मदद मिलेगी.

खानपान में बदलाव के साथ-साथ यह ज़रूरी है कि आप एक्सरसाइज़ करें. व्यायाम करने से वज़न घटाने और ब्लड शुगर लेवल पर नियंत्रण पाने में मदद मिलती है.(6) 

डायबिटीज़ में ये चार योगासन अपनाएं.

बेरिएट्रिक सर्जरी के बाद डायबिटीज़ रिवर्सल

अगर आपके लिए वज़न कम करना बहुत मुश्किल है और डॉक्टर ने आपको बेरिएट्रिक सर्जरी (वजन कम करने की सर्जरी) करने की सलाह दी है, तो आपके लिए इस सलाह को अपनाना अच्छा होगा. स्टडीज़ में यह बात सामने आई है कि डायबिटीज़ रिमिशन यानी डायबिटीज़ में सुधार के 45-95 प्रतिशत मामले इस तरह की सर्जरी पर निर्भर करते हैं.(4)

आपको अपना वज़न घटाने के लिए इंतज़ार करने की ज़रूरत भी नहीं पड़ती. सर्जरी के बाद वाली स्थिति पर पहुंचने से पहले ही ब्लड शुगर लेवल सामान्य होने लगता है. इस सर्जरी की वजह से कई हॉर्मोन का स्राव कम हो जाता है. साथ ही, नकारात्मक ऊर्जा में अचानक आए इस बदवाल का असर मेटाबॉलिज़्म पर भी पड़ता है.(5)

आप इसे कैसे हासिल कर सकते हैं?

आपका डॉक्टर आपकी डायबिटीज़ का जिस तरह से इलाज कर रहा है, उसके साथ किसी सपोर्ट प्रोग्राम को अपनाकर आप अपनी डायबिटीज़ को लौटा सकते हैं. इस प्रोग्राम में सेहतमंद खानपान, व्यायाम और ख़ुद पर नज़र रखना शामिल होना चाहिए. अनुभवी डायबिटीज़ एज्यूकेटर अश्विनी एस कनड़े के मुताबिक, “डायबिटीज़ रिवर्सल एक मुश्किल काम है लेकिन इसका समाधान आसान है. यह जीवनशैली से जुड़ी बीमारी है और इस बीमारी को लौटाने के लिए एक ख़ास इलाज है.”

इसे भी पढ़ें: वो 5 तरीक़े जिनके ज़रिए डायबिटीज़ रिवर्स करने में मदद मिल सकती है!

क्या पूरी ज़िंदगी के लिए यह ऐसे बना रह सकता है?

डायबिटीज़ रिवर्सिंग यानी डायबिटीज़ लौटाने का मतलब उसे पूरी तरह ठीक करना नहीं है. लौटाने से आप दवाइयों पर निर्भर रहे बगैर ही डायबिटीज़ की समस्या को बढ़ने से रोक सकते हैं. आप बहुत कम कैलोरी वाले खानपान और एक्सरसाइज़ के ज़रिए ज़िंदगी भर भी इस हालत में बने रह सकते हैं.

डायबिटीज़ रिवर्सल के बाद किन बातों का खयाल रखें?

अगर आप दोबारा दवाइयों पर निर्भर नहीं होना चाहते, तो आपको अपनी जीवनशैली स्वस्थ रखनी पड़ेगी. लंबे वक्त तक ब्लड ग्लूकोज़ लेवल सामान्य बने रहने से रैटिनोपैथी जैसी डायबिटीज़ से जुड़ी समस्याएं कम होने लगती हैं. अगर इस तरह की कोई समस्या पहले ही हो चुकी है, तो बहुत ध्यान रखे जाने की ज़रूरत पड़ती है.

लंबे वक्त तक सुधार बनाए रखने के लिए साल में एक बार इन परेशानियों की जांच करवानी चाहिए. 5 या उससे ज़्यादा साल के लिए डायबिटीज़ मुक्त ज़िंदगी जीने के बाद, आप ज़्यादा समय के अंतर पर भी जांच करा सकते हैं. और फिर अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद जांच करवाना बंद भी कर सकते हैं.(1)

संदर्भ:

  1. Buse JB, Caprio S, Cefalu WT, et al. How Do We Define Cure of Diabetes? Diabetes Care. 2009;32(11):2133-2135. doi:10.2337/dc09-9036.
  2. Lim EL, Hollingsworth KG, Aribisala BS, Chen MJ, Mathers JC, Taylor R. Reversal of type 2 diabetes: normalisation of beta cell function in association with decreased pancreas and liver triacylglycerol. Diabetologia. 2011 Oct;54(10):2506-14. doi: 10.1007/s00125-011-2204-7. Epub 2011 Jun 9. PubMed PMID: 21656330; PubMed Central PMCID: PMC3168743.
  3. Steven S, Hollingsworth KG, Al-Mrabeh A, Avery L, Aribisala B, Caslake M, Taylor R. Very Low-Calorie Diet and 6 Months of Weight Stability in Type 2 Diabetes: Pathophysiological Changes in Responders and Nonresponders. Diabetes Care. 2016 May;39(5):808-15. doi: 10.2337/dc15-1942. Epub 2016 Mar 21. PubMed PMID: 27002059.
  4. Vetter ML, Ritter S, Wadden TA, Sarwer DB. Comparison of Bariatric Surgical Procedures for Diabetes Remission: Efficacy and Mechanisms. Diabetes Spectr. 2012 Nov 1;25(4):200-210. PubMed PMID: 23264721; PubMed Central PMCID: PMC3527013.
  5. Lim EL, Hollingsworth KG, Aribisala BS, Chen MJ, Mathers JC, Taylor R. Reversal of type 2 diabetes: normalisation of beta cell function in association with decreased pancreas and liver triacylglycerol. Diabetologia. 2011;54(10):2506-2514. doi:10.1007/s00125-011-2204-7.
  6. El-Badawy A, El-Badri N. Clinical Efficacy of Stem Cell Therapy for Diabetes Mellitus: A Meta-Analysis. Quaini F, ed. PLoS ONE. 2016;11(4):e0151938. doi:10.1371/journal.pone.0151938.
  7. Steven S, Lim EL, Taylor R. Population response to information on reversibility of Type 2 diabetes. Diabet Med. 2013 Apr;30(4):e135-8. doi: 10.1111/dme.12116. PubMed PMID: 23320491.
  8. Sarathi V, Kolly A, Chaithanya HB, Dwarakanath CS. High rates of diabetes reversal in newly diagnosed Asian Indian young adults with type 2 diabetes mellitus with intensive lifestyle therapy. Journal of Natural Science, Biology, and Medicine. 2017;8(1):60-63. doi:10.4103/0976-9668.198343.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.