Women's Day
Reading Time: 4 minutes

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर हम सभी अपनी ज़िंदगी में मौजूद महिलाओं की अहमियत को न सिर्फ़ महसूस करते हैं बल्कि उसका शुक्रिया अदा भी करते हैं. दिलचस्प बात ये है कि हम शुक्रिया कहने के अलग-अलग अंदाज़ भी ढूंढ निकालते हैं. फिर चाहे वो महिला हमारी मां हो, बहन हो, पत्नी हो, दोस्त हो या कोई और. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अपनी ज़िंदगी में शामिल सबसे अहम महिला को प्यार जताने का कोई ऐसा तरीका भी हो सकता है जिससे वो एक खुशहाल और निश्चिन्त ज़िंदगी गुज़ार सकें.

जी हां, इस दिन गुलदस्ता, चॉकलेट या केक के साथ जश्न मनाने के अलावा ज़रूरी है कि हम उन्हें सेहत से जुड़ी सही जानकारी दें, जिससे उन्हें अपने शरीर में होने वाली किसी परेशानी का सामना करने में मदद मिल सके. आज हम इसी सिलसिले में बात कर रहे हैं, महिलाओं में पाई जाने वाली सबसे आम परेशानियों में से एक कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ (CHD) की.[1] इस लेख की अहमियत इस सच्चाई से बढ़ जाती है कि लगभग 90% महिलाओं में कम से कम एक लक्षण ऐसा नज़र आता है, जो दिल की बीमारियों के ख़तरे से जुड़ा होता है.

कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ को जानें 

कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़, दिल की वह स्थिति है जिसमें दिल के ब्लड वेसल्स दिल की मांसपेशियों तक ज़रूरत के मुताबिक़ ख़ून नहीं पहुंचा पाते. जिसकी वजह से हार्ट अटैक और अचानक होने वाले कार्डियक अरेस्ट जैसी जान पर बन आने वाली परेशानी गले पड़ सकती है. कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ (CHD) को इस्केमिक हार्ट डिज़ीज़ या कोरोनरी आर्टरीज़ के नाम से भी जाना जाता है.[3] 

यह परेशानी अक्सर दिल के ब्लड वेसल्स में प्लाक के बनने से होती है.[3] ये प्लाक कैल्शियम, फ़ैट और कोलेस्ट्रॉल से बने होते हैं.[3,4] इनके जमा होने से ब्लड वेसल्स संकुचित हो जाते हैं, जिससे दिल तक ख़ून सही ढंग से नहीं पहुंच पाता. 

मेनोपॉज़ और दिल की अलग संरचना के चलते कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ की स्थिति महिलाओं में पुरुषों से अलग होती है. महिलाओं में मेनोपॉज़ के पहले तक एस्ट्रोज़न नाम का हॉर्मोन बनता है, जिससे ब्लड वेसल्स की फ्लेक्सिबिलिटी बनी रहती है और CHD से बचाव होता है. लेकिन, मासिक धर्म के बंद होने के बाद एस्ट्रोज़न का लेवल कम हो जाता है. इसके अलावा महिलाओं के ब्लड वेसल्स का आकार पुरुषों के मुक़ाबले छोटा होता है.[3]

हालांकि, महिलाओं और पुरुषों के इलाज का तरीक़ा और जांच एक जैसे ही होते हैं, लेकिन  कुछ ऐसे लक्षण हैं तो पुरुषों से अलग, महिलाओं को महसूस हो सकते हैं.[3] 

महिलाओं में CHD के ख़तरे की वजहें 

  • ऑटोइम्यून बीमारियां, इस स्थिति में इम्यून सिस्टम ऐसे सेल्स यानी कोशिकाएं बना सकता है जो शरीर की सामान्य कोशिकाओं पर हमला कर सकती हैं[3]
  • डिप्रेशन और तनाव जैसी मानिसक समस्याएं 
  • बढ़ा हुआ वज़न और मोटापा 
  • मेटाबॉलिक सिंड्रोम, इस स्थिति में नीचे दी गई वजहों से ख़तरा बढ़ता है[3,5] 
  • हाई ब्लड प्रेशर (हाइपरटेंशन)
  • हाई ब्लड शुगर (डायबिटीज़)
  • कमर का बढ़ा हुआ आकार 
  • अच्छे कोलेस्ट्रॉल की कमी 
  • ख़ून में ट्राइग्लिसराइड जैसे फ़ैट की बढ़ी हुई मात्रा (डिसलिपिडीमिया)[5]

ये कुछ ऐसे लक्षण हैं जिनकी वजह से पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही CHD का ख़तरा बढ़ता है; लेकिन हां, ये महिलाओं के लिए पुरुषों के मुक़ाबले ज़्यादा ख़तरनाक होते हैं.

  • मधुमेह
  • मध्यम से औसत लेवल का हाई ब्लड प्रेशर
  • अच्छे कोलेस्ट्रॉल का कम स्तर[3,6] 
  • धूम्रपान 

ख़ासतौर पर महिलाओं में देखे जाने वाली स्थितियां,  भी CHD का ख़तरा बढ़ाने के लिए ज़िम्मेदार है.[3]

  • प्रेग्नेंसी के दौरान परेशानियां होना
  • प्रेग्नेंसी के दौरान एनीमिया (हीमोग्लोबिन की कमी) होना  
  •  एंडोमीट्रिओसिस (पेट के निचले हिस्से में दर्द होना), एक ऐसी स्थिति जहां गर्भाशय (यूटेरस) के अंदरूनी परत पर मौजूद टिश्यू दूसरे अंगों पर मौजूद होते हैं[3,7]
  • वक़्त के पहले यानी 40 साल के पहले ही पीरियड्स का बंद हो जाना  (प्रीमेच्योर मेनोपॉज़) 

इन सभी स्थितियों के अलावा, बर्थ कंट्रोल पिल्स (गर्भ न ठहरने की दवाएं) लेने की वजह से भी CHD के होने का ख़तरा बढ़ जाता है.[3]  

महिलाओं में CHD के लक्षण

मुमकिन है कि महिलाओं में CHD के कोई लक्षण ही न नज़र आएं, और अगर ऐसा होता है तो मुमकिन है कि ये पुरुषों में नज़र आने वाले लक्षणों से अलग हों.[3] हार्ट अटैक के मामले में  महिलाएं ये लक्षण महसूस कर सकती हैं.[3]

  • थकान 
  • सीने में दवाब या तनाव  
  • चक्कर 
  • मतली 
  • पेट दर्द 

हार्ट अटैक का सबसे आम लक्षण होता है सीने में दर्द, लेकिन महिलाओं में यह लक्षण बहुत कम ही नज़र आता है. अगर ऐसा होता भी है तो इनके दर्द का एहसास पुरुषों से अलग होता है. उदहारण के तौर पर, महिलाओं को आराम करने के दौरान सीने में दर्द होने के आसार होते हैं, जबकि पुरुषों में फिज़िकल एक्टिविटी के साथ छाती का दर्द उभर जाता है और आराम करने से कम हो जाता है. इसके अलावा, पुरुषों के मुक़ाबले महिलाओं में मानसिक तनाव से चेस्ट पेन होने की गुंजाइश ज़्यादा होती है.[3] 

जैसा कि आपने देखा, महिलाओं और पुरुषों में CHD के लक्षण अलग-अलग होते हैं. हालांकि, महिलाओं में इसकी पहचान और इलाज अक्सर पुरुषों के मुकाबले कम ही हो पाती है. इस आर्टिकल की मदद से आप समझ पाएंगी कि क्या आपको CHD का कोई ख़तरा है. इससे आप डॉक्टर से बात भी कर पाएंगे और इलाज के बारे में भी जान पाएंगे

संदर्भ:

  1. Office on women’s health. Heart disease and women [Internet]. [updated 2019 Jan 30; cited 2020 Feb 29]. Available from: https://www.womenshealth.gov/heart-disease-and-stroke/heart-disease/heart-disease-and-women.
  2. Women and heart disease [Internet]. [cited 2020 Feb 19]. Available from: https://www.cardiosmart.org/Heart-Conditions/Women-and-Coronary-Artery-Disease/Understand-Your-Condition/What-Increases-Your-Risk.
  3. National Heart, Lung, and Blood Institute. Coronary heart disease [Internet]. [cited 2020 Feb 19]. Available from: https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/coronary-heart-disease.
  4. National Heart, Lung, and Blood Institute. Atherosclerosis [Internet]. [cited 2020 Feb 19]. Available from: https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/atherosclerosis.
  5. National Heart, Lung, and Blood Institute. Metabolic syndrome [Internet]. [cited 2020 Feb 29]. Available from: https://www.nhlbi.nih.gov/health-topics/metabolic-syndrome.
  6. Centres for Disease Control and Prevention. LDL and HDL cholesterol: “bad” and “good” cholesterol [Internet]. [updated 2020 Jan 31; cited 2020 Feb 19]. Available from: https://www.cdc.gov/cholesterol/ldl_hdl.htm.
  7. Endometriosis [Internet]. [cited 2020 Mar 3]. Available from: https://www.nichd.nih.gov/health/topics/endometriosis.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.