maha shivratri recipes diabetes friendly diet
Reading Time: 5 minutes

महाशिवरात्रि हिंदू समुदाय के सबसे शुभ और पवित्र त्यौहारों में से एक है, जहां भक्त भगवान शिव को प्रसाद चढ़ाने के लिए शिव लिंग के आसपास इकट्ठा होते है. लेकिन जो बात इस पर्व को ख़ास बनाती है, वो है इस दिन भक्तों का व्रत रखना.जहाँ कुछ लोग बिना कुछ खाए-पिए उपवास करते हैं, वहीं उनमें से अधिकांश लोग फल, दूध, ड्राई फ्रूट्स और आलू खाकर इस उपवास का पालन करते हैं.

महाशिवरात्रि के दिन उपवास शुभ माना जाता है. उपवास आपके शरीर को ‘डिटॉक्सीफ़ाई’ यानी शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकालने में मदद करता है.

साथ उपवास के दिन कम खाने से हमारे शरीर के अंगों को अधिक काम नहीं करना पड़ता, उपवास करने का एक और फ़ायदा ये है कि आप ख़ुद पर ‘आत्म-नियंत्रण’ रख पाते हैं.

डायबिटीज़ में व्रत रखने के दौरान रखें इन ज़रूरी बातों का ख़याल  

तो आप महाशिवरात्रि के दिन रखे गये व्रत से कैसे ज़्यादा से ज़्यादा लाभ अर्जित कर सकते हैं? ऑनलाइन हेल्थ और वेट लॉस कोच, ‘ओबिनो’ में आहार विशेषज्ञ दिष्टि वीरा, महाशिवरात्रि के दौरान सही भोजन लेने और उपवास के दौरान अपनाए जा सकने वाली कुछ टिप्स बता रही हैं.

उपवास को “दावत” न बनने देने के उपाय

  • देखा जाए तो शिवरात्रि के दिन सूर्यास्त के बाद भोजन नहीं खाया जाता. लेकिन हम में से कई लोग खाना खाने के सही समय के बारे में निश्चित नहीं होते, जिसके चलते हमारी सेहत पर असर पड़ना शुरू हो जाता है. जब हम व्रत या उपवास को “पूरे दिन” के उपवास के तौर पर लेते हैं और कुछ नहीं खाते या फिर 6 से 8 घंटे के अंतराल में खाना खाते हैं, तब जाकर ये हमारी सेहत पर असर डाल सकता है. जबकि उपवास का मतलब ये है कि आप 2-3 घंटे के अंतराल में खाएं और कम खाएं.
  • कोशिश करें कि आप हेल्थी स्वीट्स खाएं, जो कि दूध,पनीर आदि से बने हों. जो आपके प्रोटीन की मात्रा में इज़ाफ़ा करते हैं. आप फलों से कस्टर्ड, श्रीखंड और खीर बनाकर खा सकते हैं.
  • मीठा अगर खाना चाहें तो चीनी के बदले शहद और गुड़ का इस्तेमाल करें. यहाँ कोशिश पोर्शन साइज़ को कंट्रोल करने की होनी चाहिए, न कि इन स्वीट डिशिज़ को मेन मील के तौर पर इस्तेमाल करने की.ख़ासकर तब जब आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में न हो.
  • आप कुट्टू के आटे से बनी रोटी जिमीकंद या सूरन की सब्ज़ी, कढ़ी, मीठे आलू से बनी चाट खा सकते हैं.
  • मीठे आलू में फ़ाइबर, खनिज की मात्रा काफ़ी होती है. जिससे आपके शरीर का ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है.
  • सुनिश्चित करें कि आप खाने के बीच में लंबे अंतराल न रखें, क्योंकि इससे आप अगली दफ़ा ज़्यादा भोजन खाने लग सकते हैं.
  • अपने भोजन को हल्का रखें और तले हुए खाद्य पदार्थों से बचें. मसलन, आप फ्राइड चिप्स के बदले नॉन स्टिक पैन पर बनाई गई उबले हुए आलू से बनी टिक्की खा सकते हैं. साबूदाना वडा के बदले आप साबूदाना खिचड़ी खाएं.
  • खाने के बीच के गैप को भरने के लिए आप अपने आहार में कुछ फल, छाछ, बादाम, मिल्क शेक और नमकीन लस्सी जोड़ने की कोशिश करें.

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज़ में आंवले से दोस्ती करनी है बहुत ज़रूरी 

उपवास के दौरान हाइड्रेटिड रहने यानी शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा के बने रहने का महत्व:

क्योंकि उपवास एक ऐसा ज़रिया है जिससे आप अपने शरीर को ‘डिटॉक्सीफ़ाई’ यानी शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकाल पाते हैं. ऐसे में पानी का महत्व बढ़ जाता है. पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से डिटाक्सिफ़िकैशन की प्रक्रिया में तेज़ी आती है और शरीर से विषैली पदार्थ आसानी से बाहर आ पाते हैं. शरीर को पर्याप्त मात्रा में पानी मिलने से ये भूख और प्यास से जुड़े सिग्नल्स में भेद कर पाता है जिससे भ्रम की स्थिति पैदा नहीं होती और शरीर ज़रूरत से ज़्यादा खाना खाने से बच पाता है.

नीचे हम आपको 5 स्वादिष्ट और महाशिवरात्रि पर बनाए जा सकने वाले व्यंजनों की आसान विधि बता रहे हैं, जिन्हें आप आसानी से तैयार कर सकते हैं.

1.अखरोट और खजूर के लड्डू

बनाने की सामग्री:
3/4 कप कच्चे अखरोट

½ कप कच्चा काजू
½ कप बादाम
3/4 कप खजूर
2 चम्मच, कटा हुआ नारियल
1/2 चम्मच इलायची
आप थोड़ा और नारियल का मिक्चर लेकर इन लड्डुओं पर इसकी परत चढ़ा सकते हैं (लगभग 2/3 कप).

बनाने की विधि:
अखरोट, बादाम और काजू को फ़ूड प्रोसेसर में डालें और इसका बारीक पाउडर बना लें.

अब खजूर को मिक्सर में डालकर इसका बारीक पेस्ट बनाएं.
नारियल और इलायची को खजूर के पेस्ट में मिक्स कर दें

खजूर के मिक्चर को बादाम के मिला दें और अच्छे से मिक्स कर दें.
अब इसके गोल लड्डू बनाए
इन लड्डुओं पर थोड़ा नारियल के पाउडर का लेप लगाएं.
इन लड्डुओं को प्लेट में रखें या फिर कुछ देर के लिए इन्हें फ्रीज़र में डाल दें.
याद रखें कि आप इसे किसी एयर टाइट बॉक्स में ही डालकर रखें ताकि ये जल्द खराब न हो.

2. थालीपीठ

बनाने की सामग्री
1/2 कप राजगिरा आटा

1/4 कप कसा और छिला हुआ आलू
2 टेबल स्पून भुना हुआ मूंगफली का पाउडर
स्वाद के अनुसार सेंधा नमक
1/2 टेबल स्पून नींबू का रस
2 चम्मच कटा हुआ धनिया
1 चम्मच हरी मिर्च का पेस्ट
पकाने के लिए थोड़ा घी

बनाने की विधि:
एक बर्तन में इस सब सामग्री को मिला लें और थोड़ा पानी डालें ताकि इसका गाढ़ा पेस्ट या लेई बनकर तैयार हो जाए. थालीपीठ को बनाने से पहले इस लेई को कुछ देर बर्तन में ही रहने दें.

अब एक नॉन स्टिक तवा लें और उसे गैस पर चढ़ा दें. अब इस तवे पर थोड़ा घी डालें और उबलने दें.

अब अपनी हथेली पर थोड़ा सा पानी छिड़कें और ऊँगली से उसे फैला दें. अब थोड़ी देर पहले बनाई गई लई के एक हिस्से को लें और तवे पर इसका 100 मिमी व्यास का गोला बनाए. जिस तरह आप पेनकेक्स बनाते हैं.
अब थोड़ा घी का उपयोग करते हुए, तब तक इसे पकने दें जब तक कि दोनों हिस्सों का रंग सुनहरे भूरे रंग में न बदल जाए.
अब आप इसे ताज़ा दही के परोसें.

3. मीठे आलू से बना चाट

बनाने की सामग्री
डेढ़ से दो कप उबले हुए मीठे आलू लें.
¼ टेबल स्पून काली मिर्च.
सेंधा नमक
थोड़ा धनिया

बनाने की विधि:
आलुओं को अच्छे से धो लें और उन्हें प्रेशर कुकर में डालकर 3-4 सीटियाँ लगने दें.

एक बार अच्छे से पकने के बाद, इन्हें छीलकर छोटे टुकड़ों में काट लें.
सभी मसालें डालें और परोसें

4. दोसा/ डोसा

बनाने की सामग्री
½ कप सामा बाजरा
1/2 कप राजगिरा आटा
1/2 कप छाछ
1 टेबल स्पून अदरक और हरी मिर्च का पेस्ट
सेंधा नमक
थोड़ा तेल

बनाने की विधि:
सामा को अच्छे से धोकर साफ़ कर लें,और कम से कम 2 घंटे के लिए इसे किसी कटोरी में रख कर पानी में भिगो दें

पानी को निचोड़ने के बाद आप इसे मिक्सर में डालकर थोड़ा पानी मिलर इसका पेस्ट बना लें.

अब इसे एक कटोरी में रख कर इसमें राजगीरा का आटा और छाछ मिला दें. साथ में आप अदरक और हरी मिर्च का पेस्ट मिलाना न भूलें. इसे कुछ देर के लिए ऐसा ही छोड़ दें. डोसा बनाने से पहले आप इसमें स्वाद के अनुसार थोड़ा सेंधा नमक मिला सकते हैं.

अब एक नॉन स्टिक तवा लें और उसे गैस पर चढ़ा दें. थोड़ी देर बाद आप इसपर सामा से बने इस पेस्ट को डालना शुरू करें और किसी चम्मच की मदद तवे पर इस पेस्ट को गोल घुमाने और पतला करने की कोशिश करें. डोसा के बाहरी हिस्से पर नमक का छिड़काव करें और जब तक इसका रंग सुनहरे भूरे रंग में न बदल जाए, तब तक इसे पकने दें.पकने के बाद परोसना शुरू करें

5. केले से बना स्मूदी:

नाम थोड़ा अलग लग सकता है, लेकिन स्वाद में ये लाजवाब है. असल में ये केले से बना गाढ़ा पेय पदार्थ है.

बनाने की सामग्री:
1 केला

2/4 कप दही
¼ टेबल स्पून कच्चा कोको
2 खजूर
चुटकी भर दालचीनी

बनाने की विधि:
सभी सामग्री का एक मिश्रण बना लें.

और तुरंत खा लें.

व्रत के दिन एक बार जब आप इन व्यंजनों को खाते हैं, तो इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि जिस दिन आपका उपवास न हो उन दिनों में भी आप इन व्यंजनों को खाना पसंद करेंगे. इसमें कोई शक नहीं कि ये सभी व्यंजन काफ़ी पौष्टिक और स्वादिष्ट होते हैं.

ज़रूरी बात: अगर आपकी सेहत नाजुक स्थिति में है तो हम यही सलाह देंगे कि या तो आप उपवास से बचें या डॉक्टर की निगरानी में ही उपवास रखें.

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.