reduce risk of heart attack and stroke
Reading Time: 4 minutes

डायबिटीज़ का मतलब सिर्फ़ ख़ून में शुगर का स्तर ऊंचा होना नहीं है, इससे दिल और दिमाग़ समेत शरीर के कई हिस्से प्रभावित हो सकते हैं.

क्या आपको दिल की बीमारियों और स्ट्रोक का ख़तरा है?

  • डायबिटीज़ से ग्रसित दो-तिहाई लोगों में हाई ब्लड प्रेशर (हाइपरटेंशन) होता है, जो दिल की बीमारियों की बड़ी वजह मानी जाती है.(1) लिहाज़ा अगर आपको डायबिटीज़ के साथ हाई ब्लड प्रेशर है, तो आप ज़्यादा ख़तरे में हैं. (2)
  • अगर आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य रेंज से बाहर है, साथ में मोटापा और एक सुस्त जीवनशैली है, तो यह ख़तरा और भी बढ़ जाता है.  
  • स्मोकिंग से दिल की बीमारियों में तेज़ी देखी गई है.(3)
  • सामान्य महिलाओं की तुलना में डायबिटीज़ ग्रसित महिलाओं में दिल की बीमारियों या स्ट्रोक की आशंका तीन गुना बढ़ जाती है. फिर चाहे वो स्मोक न भी करती हों, अपना वज़न क़ाबू में रखें और शारीरिक रूप से सक्रिय रहें.(4) अगर आप डायबिटीज़ से ग्रसित महिला हैं, तो ये बातें भी जान लीजिए!
  • ख़ून में शुगर की मात्रा कम होना (हाइपोग्लाइसीमिया) भी ख़तरनाक है.(2)

इन चेतावनियों पर ध्यान दें:

दिल से जुड़ी अलग-अलग बीमारियों के लक्षण भी अलग-अलग होते हैं. कुछ लक्षण दिखते हैं जैसे- धड़कनों का तेज़ होना, छाती में दर्द होना, कुछ नहीं भी दिखते. कमज़ोर दिल से रोज़मर्रा की ज़िंदगी में परेशानियां बढ़ जाती हैं. आप थकान, सांस लेने में परेशानी, कमज़ोरी और अनिद्रा महसूस कर सकते हैं. इसके अलावा काम से ध्यान भी भटक सकता है.  

दिल का दौरा पड़ने से छाती में दर्द और दूसरी परेशानियां हो सकती हैं. जैसे-कंधे, जबड़े या पीठ के बाएं हिस्से में दर्द हो सकता है. इसके अलावा नाक से पानी बहना, उल्टी आना और सांस लेने में तकलीफ़ होना भी इसके लक्षण हैं.  

स्ट्रोक से आपके शरीर का एक हिस्सा जैसे-चेहरा, हाथ या पैर सुन्न हो सकते हैं. आपको बोलने में परेशानी हो सकती है. शरीर असंतुलित होने के साथ बेहोशी छा सकती है.

डायबिटीज़ किस तरह शरीर की नसों और दिल पर असर डालता है?

अगर आपके घर पानी पहुंचाने वाला पाइप जाम हो जाए, तो आपके घर पानी नहीं आ पाएगा. इसी तरह डायबिटीज़ से दिल और दिमाग़ को ख़ून की सप्लाई करने वाली नसों पर असर पड़ता है, और वो जाम हो जाती है.

दिल तक ख़ून पहुंचाने वाली नसों में ख़ून का थक्का जमने से दिल का दौरा पड़ता है और डायबिटीज़ में इसकी आशंका दोगुनी होती है. इसके अलावा डायबिटिज़ से ग्रसित व्यक्ति को होने वाले दिल के दौरे तीन गुना ज़्यादा ख़तरनाक होते हैं.(5) डायबिटीज़ के कारण दिमाग़ की नसों को होने वाले नुक़सान से स्ट्रोक का ख़तरा बढ़ जाता है.(6)

आप इस ख़तरे को कम कर सकते हैं

डायबिटीज़ का जितना बेहतर मैनेजमेंट होगा, दिल की बीमारियों से उतनी ही दूरी बनी रहेगी. इसके अलावा शारीरिक निष्क्रियता, स्मोकिंग, हाई ब्लडप्रेशर, कोलेस्ट्रॉल को कम करने से आप इन ख़तरों से दूरी बनाए रख सकते हैं.

ख़ून में शुगर का स्तर निर्धारित सीमा के भीतर रखें. रोज़ाना व्यायाम करें. सेहतमंद खाना खाएं. कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम रखें. स्मोकिंग बंद करें. स्मोकिंग का असर, डायबिटीज़ से ग्रसित लोगों पर बेहद ख़तरनाक होता है. डॉक्टर से नियमित जांच कराना न भूलें. दिल की बीमारियों की पहचान के लिए सालाना जांच ज़रूर कराएं.

इसे भी समझे: आख़िर डायबिटीज़ में व्यायाम करना या चलना ज़रूरी क्यों है?

एडीए की सिफ़ारिशों के मुताबिक़:(7)

  • वज़न ज़्यादा होने पर कम करने की योजना बनाएं.
  • कम सोडियम और ज़्यादा पोटैशियम वाला खाना खाएं.
  • शारीरिक अभ्यास बढ़ाएं और सक्रिय रहें.
  • अल्कोहल का सेवन कम करें.
  • नियमित तौर पर ब्लड प्रेशर की जांच करें.
  • अगर आपको डायबिटीज़ के साथ हाइपरटेंशन है तो ब्लड प्रेशर 140/90 एमएमएचजी के बीच होना चाहिए.
  • अगर आपको सीवीडी का ज़्यादा ख़तरा है तो ब्लड प्रेशर 130/80 एमएमएचजी के बीच होना चाहिए.
  • अगर आपको डायबिटीज़ के साथ हाई ब्लड प्रेशर है और आप गर्भवती हैं, तो ब्लड प्रेशर 120–160/80–105 एमएमएचजी के बीच होना चाहिए.


संदर्भ
:

  1. Rizvi AA. ADDRESSING HYPERTENSION IN THE PATIENT WITH TYPE 2 DIABETES MELLITUS: PATHOGENESIS, GOALS, AND THERAPEUTIC APPROACH. Eur Med J Diabetes. 2017 Oct;5(1):84-92. PubMed PMID: 29129996; PubMed Central PMCID: PMC5679430.
  2. Fox CS, Golden SH, Anderson C, Bray GA, Burke LE, de Boer IH, Deedwania P, Eckel RH, Ershow AG, Fradkin J, Inzucchi SE, Kosiborod M, Nelson RG, Patel MJ, Pignone M, Quinn L, Schauer PR, Selvin E, Vafiadis DK; American Heart Association Diabetes Committee of the Council on Lifestyle and Cardiometabolic Health, Council on Clinical Cardiology, Council on Cardiovascular and Stroke Nursing, Council on Cardiovascular Surgery and Anesthesia, Council on Quality of Care and  Outcomes Research, and the American Diabetes Association. Update on Prevention of Cardiovascular Disease in Adults With Type 2 Diabetes Mellitus in Light of Recent Evidence: A Scientific Statement From the American Heart Association and the American Diabetes Association. Circulation. 2015 Aug 25;132(8):691-718. doi: 10.1161/CIR.0000000000000230. Epub 2015 Aug 5. Review. PubMed PMID: 26246173.
  3. Pan A, Wang Y, Talaei M, Hu FB. Relation of Smoking with Total Mortality and Cardiovascular Events Among Patients with Diabetes: A Meta-Analysis and Systematic Review. Circulation. 2015;132(19):1795-1804. doi:10.1161/CIRCULATIONAHA.115.017926.
  4. Spencer EA, Pirie KL, Stevens RJ, Beral V, Brown A, Liu B, Green J, Reeves GK; Million Women Study Collaborators. Diabetes and modifiable risk factors for cardiovascular disease: the prospective Million Women Study. Eur J Epidemiol. 2008;23(12):793-9. doi: 10.1007/s10654-008-9298-3. Epub 2008 Nov 18. PubMed PMID: 19015938.
  5. The Emerging Risk Factors Collaboration. Diabetes mellitus, fasting blood glucose concentration, and risk of vascular disease: a collaborative meta-analysis of 102 prospective studies. Lancet. 2010;375(9733):2215-2222. doi:10.1016/S0140-6736(10)60484-9..
  6. Janghorbani M, Hu FB, Willett WC, Li TY, Manson JE, Logroscino G, Rexrode KM. Prospective study of type 1 and type 2 diabetes and risk of stroke subtypes: the  Nurses’ Health Study. Diabetes Care. 2007 Jul;30(7):1730-5. Epub 2007 Mar 27. PubMed PMID: 17389335.
  7. American Diabetes Association. Cardiovascular disease and risk management. Sec. 9. In Standards of Medical Care in Diabetesd2017. Diabetes Care 2017;40(Suppl. 1): S75–S87

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information provided in this article is for patient awareness only. This has been written by qualified experts and scientifically validated by them. Wellthy or it’s partners/subsidiaries shall not be responsible for the content provided by these experts. This article is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this article/website.