diabetic socks
Reading Time: 3 minutes

कंटेंट की समीक्षा: अश्विनी एस कनाडे ने की है, वे रजिस्टर्ड डाइटीशियन हैं और 17 सालों से मधुमेह से जुड़ी जानकारियों के प्रति लोगों को जागरुक कर रहीं हैं.

डायबिटीज़ से ग्रसित लोगों को अक्सर सलाह दी जाती है कि वो अपने पैरों की ठीक से देखभाल करें. आपके डॉक्टर ने भी आपको कई दफ़ा चेतावनी दी होगी कि एक छोटा सा घाव भी सही इलाज ना होने पर अल्सर का रूप ले सकता है. लेकिन डॉक्टर आपको ये सब डराने के लिए या बढ़ा चढ़ाकर नहीं बता रहा है. असल में द अमेरिकन ऑर्थोपेडिक फ़ूट एंड एंकल सोसाइटी का कहना है कि अगर किसी को डायबिटीज़ हो तो उसके पैरों में डायबिटीज़ से जुड़ी तकलीफ़ों के होने का ख़तरा ज़्यादा होता है.(1)

डायबिटीज़ में होने वाली परेशानियों के वो 8 शुरुआती लक्षण जिसे लोग अनदेखा करते हैं

पैरों की देखभाल को लेकर जैसे-जैसे सजगता बढ़ी वैसे-वैसे डायबिटीक मोज़े के कई ब्रैंड भी उपलब्ध होने लगे, लेकिन सवाल ये है कि क्या आपको वाक़ई उनकी ज़रूरत है?

क्या है डायबिटिक मोज़े?

डायबिटिक मोज़े काफ़ी हद तक आम मोज़ों की तरह ही होते हैं, लेकिन उन्हें इस तरह से बनाया जाता है ताकि उनसे आपके पैरों की देखभाल हो सके और पैरों को कोई नुक़सान न पहुंचे, ऐसे मोज़े ज़्यादातर आपके पैर को कुछ इस तरह से सुरक्षित रखते हैं –

  • ये आपके पैरों में फोड़े या छाले होने से बचाते हैं.
  • पैरों के निचले हिस्से पर ज़्यादा दबाव नहीं पड़ने देते.
  • पैरों में नमी नहीं होने देते.

साधारण मोज़े से कैसे अलग होते हैं डायबिटीज़ सॉक्स?

आम मोज़े इलास्टिक फ़ाइबर के बने होते हैं. लेकिन डायबिटिक मोज़े में इलास्टिक नहीं होते हैं. ज़्यादा सिलाई न होने की वजह से इसे पहनकर आप असहज नहीं होते. बिना इलास्टिक के मोज़े में आप आम मोज़े की तरह बंधा हुआ महसूस नहीं करते हैं. अधिकांश डायबिटिक मोज़ों में थोड़ी पैडिंग या कुशनिंग होती है ताकि आपके पैर ज़ख़्मी न हों.

कुछ मोज़े उन कपड़ों या फैब्रिक के बने होते हैं जो नमी (गीलापन) को सोख सकें, ताकि पसीना आपके पैर में ना रहे. ये फ़ायदेमंद इसलिए होते हैं, क्योंकि इसे पहनने से पैर सूखे रहते हैं और सूखे पैर में फ़ंगल इंफ़ेक्शन या छाले पड़ने के आसार कम होते हैं.

रिर्सच क्या कहती है?

डायबिटिक मोज़े साधारण मोज़े से अच्छे होते हैं या नहीं इसपर कोई ख़ास और विस्तृत शोध नहीं हुए हैं. हालांकि पैडेड मोज़ों के फ़ायदों पर की गई व्यवस्थित समीक्षा में उनके इस्तेमाल से होने वाले लाभों के भी सीमित सबूत पाए गए हैं.(2)

वीडियो देखें: रात में सोते समय ब्लड शुगर को कैसे कंट्रोल करें

 

क्या आपको डायबिटिक मोज़ों का इस्तेमाल करना चाहिए?

जैसा कि डायबिटिक मोज़ों के बारे में अभी तक किसी तरह की चिकित्सीय सूचना यानी मेडिकल इंफ़ॉर्मेशन नहीं दी गई है, ऐसे में इस इस नतीजे पर पहुंचना काफ़ी मुश्किल हो सकता है कि आपको डायबिटिक मोज़ों का इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं. इसलिए अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन के आर्टिकल सॉकवियर रिकमेंडेशन फ़ॉर पीपल विद डायबिटीज़ में दिए गए निर्देशों पर ग़ौर करने की कोशिश करें.(3)

  • अगर आपके पैर बिना किसी घाव के हैं या उनमें कोई तकलीफ़ नहीं है, तो आप वही मोज़े पहने जिनमें आप आराम और सहज महसूस करते हैं. पर इस बात का ध्यान रखें कि आप उस तरह के मोज़े न पहने जिनकी सिलाई आपके पैरों को असहज महसूस करवाए.
  • ऐसे कपड़ों से बने मोज़ों को चुनें जो आपकी त्वचा को नुक़सान नहीं पहुंचाते हों.
  • अगर आपके पैरो की महसूस करने की क्षमता कम हो गई है, तो आप ज़्यादा पैडेड और हल्के रंग के मोज़े पहनें. आपके पैरों को दर्द का एहसास ना होने का मतलब है कि चोट लगने के बाद भी आप चोट से बेख़बर रह सकते हैं. इसलिए पैडेड मोज़े आपके पैरों को ज़्यादा महफ़ूज़ रखेंगे, साथ ही चोट लगने पर मोज़े का रंग हल्का होने के चलते चोट पर आसानी से ध्यान भी जाएगा.
  • अगर आप बहुत ज़्यादा व्यायाम करते हैं, तो एक्रिलिक मोज़ों का इस्तेमाल करें (जैसे दौड़ने या ब्रिस्क वॉक के लिए) क्योंकि व्यायाम यानी एक्सरसाइज़ के बाद पैरों में ज़्यादा पसीना आजाता है. एक्रिलिक फ़ाइबर और पैडिंग के इस्तेमाल से आपके पैर सूखे रहेंगे और इनमें जल्दी छाले नहीं पड़ेंगे.

सबसे ज़रूरी ये है कि आप ख़ुद समझें कि आपके लिए क्या सही है और क्या आपको सूट करता है, ना कि सिर्फ़ डायबिटिक मोज़ों का लेबल देखकर इसे खरीदें. इस बात को सुनिश्चित कर लें कि आप हमेशा अपने पैरों की जांच करते रहें, कि कहीं मोज़ों या जूते से आपके पैरों को कोई तकलीफ़ तो नहीं हो रही है. अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने से आप कई परेशानियों को दूर कर सकते हैं. डायबिटिक मोज़े ख़रीदने से पहले हमेशा केयर टेकर या उन लोगों से सलाह ज़रूर करें जो आपकी देखभाल करते हों और उनसे इसकी ज़रूरत के बारे में ज़रूर पूछें.

संदर्भ

  1. FootCare MD. The Diabetic Foot and Risk: How to Prevent Losing Your Leg. American Orthopaedic Foot and Ankle Society. Available online at http://www.aofas.org/footcaremd/conditions/diabetic-foot/Pages/The-Diabetic-Foot-and-Risk-How-to-Prevent-Losing-Your-Leg.aspx
  2. S.J. Otter, K. Rome, B. Ihaka, A. South, M. Smith, A. Gupta et al. Protective socks for people with diabetes: a systematic review and narrative analysis. J Foot Ankle Res. 2015; 8: 9. doi:  10.1186/s13047-015-0068-7. Available online at: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4431172/
  3. C.B. Feldman, E.D. Davis. Sockwear Recommendations for People With Diabetes. Diabetes Spectrum 2001 Apr; 14(2): 59-61. https://doi.org/10.2337/diaspect.14.2.59Available online at: http://spectrum.diabetesjournals.org/content/14/2/59

Loved this article? Don't forget to share it!

Disclaimer: The information we share is verified by experts and scientifically validated. However, it is not a replacement for a doctor’s advice. Please always check with your doctor before trying anything suggested on this website.